Category: Poetry

This one is regarding menstruation/period and the taboos that many people have attached to it. Lets see its the beginning or the end.
Hared! It's everywhere! Let's learn What and Why of Hatred. I have presented it here in a poetic way to help you understand it better.
एक छोटा सा एक्सपेरिमेंट है। वर्णमाला के क्रम में एक कविता लिखने का। युगों का एक चक्र है। मतलब की कलियुग के बाद फिर से या तो त्रेतायुग या सतयुग आएगा, जब हर चीज़ फिर से बेहतर हो जाएगी। उन्ही दिनों को दिखाया है इस कविता में।
When I visited my parents in a vacation, I faced a sad truth! They grew old! This poem is about this feeling!
एक छोटा सा प्रयास है और लोगों तक शिव तांडव स्तोत्रम पहुंचाने का। मैंने सोचा की क्यों न इसका हिंदी अनुवाद किया जाए एक कविता के रूप में।
दुनिया को बदलने से पहले, कोशिश करो,सिर्फ एक कोशिश… अपनी सोच को बदलने की।वादा करता हूँ जल्द ही दुनिया बदलती नज़र आएगी।
Archives
Follow by Email
LinkedIn
LinkedIn
Share
Instagram