Tag: poem

मैंने कृष्ण जी के लिए कुछ लिखने की सोचा, जिन्होंने हमें ऐसी अद्भुत रचना भेंट की।
What all thoughts would cross your mind if you came to know that today is your last day? What would you do?
यह कविता मेरे दिल के बहुत करीब है, क्योंकि इसमें मेरी बचपन की बहुत सारी यादें हैं। यह मेरी बहनों के बारे में है। मेरी तीन प्यारी बहनें। सच कहूं, तो बचपन का बहुत कुछ याद नहीं,लेकिन कुछ यादें ऐसी हैं लगता है कल की ही हैं। कुछ मासूमियत भरी, तो कुछ जिनमे खुशियां हैं […]
कभी किसी को देख के लगता है की ये कुछ अलग ही है, इसके अंदर कुछ अलग करने की चाह है। कुछ ऐसे ही लोगों की कहानी लिखी है इस कविता में।
Main nahi to kuch nahi... A poetry about energy... हर युग भी मैं … हर युग में मैं … मैं अणु हूँ … ब्रह्माण्ड भी …
Archives
Follow by Email
LinkedIn
LinkedIn
Share
Instagram